Trending

स्वरोजगार और महिलाओं की आत्मनिर्भरता का जरिया बन रही हैं स्वसहायता समूह

Mar 20 • रायपुर • 4 Views • No Comments on स्वरोजगार और महिलाओं की आत्मनिर्भरता का जरिया बन रही हैं स्वसहायता समूह

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

रायपुर. स्वसहायता समूह के जरिए छत्तीसगढ़ की महिलाएं सशक्त हो रही हैं. स्वसहायता समूह की मदद से महिलाएं स्वरोजगार कर अपने पैरों पर खड़ी हो रही हैं. इससे परिवार और समाज में उनका कद भी बढ़ रहा है. हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आईं सरगुजा जिले के पंपापुर पंचायत की पंच कुंती भोये ने भी अपने गांव की स्वसहायता समूह से दस हजार रूपए का ऋण लेकर किराना दुकान शुरू किया था. अब इससे उन्हें अच्छी आमदनी हो रही है. किराना व्यवसाय शुरू करने के बाद से उनके परिवार की आर्थिक स्थिति पहले से काफी बेहतर हो गई है.पंपापुर की पंच कुंती भोये अपने स्वसहायता समूह की सचिव भी हैं. वे बताती हैं कि पहले संयुक्त परिवार में ठीक से गुजारा नहीं होता था. परिवार में सदस्य अधिक थे और कमाने वाले कम. खर्च अधिक होने की वजह से आए दिन विवाद की स्थिति रहती थी. अंत में अलग होकर रहना पड़ा. पति निजी स्कूल में नौकरी करते हैं. पर उनकी कमाई से बच्चों की पढ़ाई और घर का खर्च पूरा नहीं पड़ता था. कुंती भोये कहती हैं कि घर की आय बढ़ाने के लिए वे महिला स्व-सहायता समूह से जुड़ीं. राज्य शासन की महिला कोष योजना से उनके समूह को मिले अनुदान से उन्होंने और उनके समूह की अन्य महिलाओं ने स्वरोजगार के लिए ऋण लिया. ऋण लेकर उन्होंने किराना दुकान शुरू किया. कुंती भोये बताती हैं कि ग्रामसभा और ग्राम सेवक के माध्यम से गांव की महिलाओं को स्व-सहायता समूह के संचालन और महिला कोष योजना के बारे में जानकारी मिली. इसके बाद महिलाओं से समूह का गठन किया. स्वसहायता समूह का सही तरीके से संचालन करने के बाद महिला कोष योजना से समूह को 90 हजार रूपए अनुदान मिला. इस राशि का उपयोग स्व-सहायता समूह की सदस्यों की मदद और मामूली ब्याज पर स्वरोजगार के लिए ऋण देने में किया गया. अब दुकान उनकी आमदनी का नियमित जरिया बन गया है. कुंती भोये कहती हैं कि महिला कोष योजना से महिला सशक्तिकरण को मजबूती मिल रही है. हमर छत्तीसगढ़ योजना के बारे में वे कहती हैं कि यहां आकर उन्हें रायपुर एवं नया रायपुर सहित पूरे प्रदेश के विकास को जानने-समझने का मौका मिला. कृषि विश्वविद्यालय और साइंस सेंटर में भी काफी कुछ देखने-सीखने को मिला.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

« »