Trending

चौहत्तर वर्ष बाद भी छिंदगांव के ग्रामीण मान रहे राजाज्ञा

Mar 20 • छत्तीसगढ़ • 1 Views • No Comments on चौहत्तर वर्ष बाद भी छिंदगांव के ग्रामीण मान रहे राजाज्ञा

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

जगदलपुर. छत्तीसगढ़ के जगदलपुर जिला मुख्यालय से करीब 35 किलोमीटर दूर इन्द्रावती नदी के किनारे शिवमंदिर परिसर में बिखरी पड़ी 10 वीं शताब्दी की मूर्तियों को छिंदगांव के ग्रामीण छूने से डरते हैं, चूंकि उनके राजा ने 74 साल पहले उन्हे ऐसा करने से मना किया था. बताया गया है कि राजाज्ञा की वह तख्ती आज भी इस मंदिर परिसर में टंगी है. बस्तरवासी अपने राजाओं का आदर करते रहे हैं और आज भी उनके आदेशों का सम्मान करते हैं, चूंकि वे बस्तर राजा को ही अपनी आराध्या मां दंतेश्वरी का माटी पुजारी मानते हैं. देश की आजादी के साथ ही 69 साल पहले रियासत कालीन व्यवस्था समाप्त हो गई है, लेकिन लोहण्डीगुड़ा विकासखंड के ग्राम छिंदगांव के ग्रामीण आज भी 1942 में जारी राजाज्ञा का पालन कर रहे हैं. दरअसल इन्द्रावती किनारे स्थित छिंदगांव के गोरेश्वर महादेव मंदिर में पुराने शिवलिंग के अलावा भगवान नरसिंह, नटराज और माता कंकालिन की पुरानी मूर्तियां हैं. मंदिर के केयरटेकर त्रिनाथ कश्यप, छिंदगांव के गजमन राम कश्यप, अगाधू जोशी बताते हैं कि बस्तर के राजा शिव उपासना के लिए वर्षों से छिंदगांव शिवालय आते रहे और परिसर में पड़ी मूर्तियों को संरक्षित करने का प्रयास करते रहे हैं. उन्हीं के आदेश पर सागौन लकड़ी पर खोद कर लिखा गया आदेश मंदिर में है. जिसमें अंग्रेजी और हिन्दी में लिखा है कि इस मूर्ति को हटाना, बिगाड़ना या तोड़ना मना है. सूचना फलक को वर्ष 1942 में बस्तर स्टेट के तत्कालीन कर्मचारियों ने मंदिर परिसर में लगाया था. तब से यहां के ग्रामीण इन मूर्तियों के साथ छेड़छाड़ तो दूर इन्हे दूसरी जगह स्थापित करने का भी कभी प्रयास नहीं किए. इधर जिला पुरातत्व संग्रहालय के संग्रहालयाध्यक्ष एएल पैकरा ने बताया कि यह मंदिर 1982 से छग पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित है. शिवालय में पड़ी पुरानी मूर्तियों को संग्रहालय में लाने का प्रयास किया गया, परन्तु ग्रामीणों ने राजाज्ञा के प्रति सम्मान और आस्था के चलते मूर्तियों को संग्रहालय लाने नहीं दिया.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

« »