0.00

रिजर्व बैंक की सिफारिश पर हुआ नोटबंदी का निर्णय

नयी दिल्ली. सरकार ने रिजर्व बैंक की सिफारिश पर 500 और एक हजार रुपये के पुराने नोटों का प्रचलन बंद करने का निर्णय लिया था. रिजर्व बैंक ने कांग्रेस नेता एम. वीरप्पा मोइली की अध्यक्षता वाली वित्त मंत्रालय से संबंद्ध संसदीय समिति को भेजी अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी देते हुये कहा है कि सरकार ने कालेधन, आतंकवाद के वित्त पोषण और फर्जी नोटों की समस्याओं से एक साथ निजात पाने के उद्देश्य से सात नवंबर को उसे 500 और एक हजार रुपये के नोटों का प्रचलन बंद करने की सलाह दी थी. उसने कहा कि इसके अगले दिन अर्थात् 08 नवंबर को केन्द्रीय बैंक के सेंट्रल बोर्ड ने सरकार की सलाह पर विचार करने के बाद केन्द्र सरकार को 500 और एक हजार रुपये के नोटों की वैधता समाप्त करने की सिफारिश करने का निर्णय लिया था. रिजर्व बैंक की नोटबंदी की सिफारिश के कुछ घंटे के भीतर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक हुयी और उसमें 500 और एक हजार रुपये के नोटों का प्रचलन बंद करने का निर्णय लिया गया. रिजर्व बैंक ने अपने जबाव में कहा है कि फर्जी नोटों से बचने के लिए अधिक सुरक्षा फीचर वाले नये सीरीज के बैंक नोट जारी करने पर वह पिछले कुछ वर्ष से काम कर रहा था. इसके साथ ही सरकार ने कालेधन और आतंकवाद से निपटने के लिए भी कदम उठाये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *