0.00

नीलम को पुरस्कार लेने दिल्ली जाने में कठिनाई, राज्यपाल ने की आ​र्थिक मदद

रायपुर. राज्यपाल बलरामजी दास टंडन ने संवेदनशील पहल करते हुए धमतरी जिले की नीलम ध्रुव और उसके परिवार को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार लेने के लिए दिल्ली जाने के लिए 50 हजार रूपए की त्वरित आर्थिक मदद की है. राज्यपाल टंडन को गत दिवस स्थानीय समाचार पत्र के जरिए जब यह जानकारी मिली कि राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए चयनित नीलम ध्रुव को दिल्ली जाने में आर्थिक कठिनाई हो रही है, तब उन्होंने तत्काल अधिकारियों को 50 हजार रूपए की आर्थिक सहायता दिलाने के निर्देश दिए और उसे परिवार सहित दिल्ली में ठहराने की पूरी व्यवस्था करने को कहा. राज्यपाल सचिवालय के अधिकारियों ने तत्काल वस्तुस्थिति की जानकारी ली और आज ही 50 हजार रूपए का चेक नीलम के परिवार को प्रेषित किया गया. उल्लेखनीय है कि नौ वर्षीय नीलम, मां संतोषी बाई की इकलौती संतान है, उसके पिता का निधन हो चुका है. परिवार का पालन पोषण मां के द्वारा मजदूरी कर किया जा रहा है. राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार प्राप्त करने नीलम की मां को अकेले दिल्ली जाने में कठिनाई महसूस हो रही थी इसलिए वह नीलम के ताऊ सीताराम ध्रुव को भी दिल्ली साथ ले जाना चाहती है, किन्तु परिवार की आर्थिक कठिनाई की वजह से दिक्कत आ रही थी. राज्यपाल टंडन की संवेदनशील और त्वरित पहल से अब नीलम का परिवार बहुत खुश है. नीलम की मां संतोषी बाई सहित पूरा गांव इस मदद से बहुत प्रसन्न हैं. उन्होंने बताया कि अब परिवार के लोग बेटी को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार लेते देख सकेंगे. ज्ञात हो कि धमतरी जिले के ग्राम मुजगहन में रहने वाली 9 वर्षीय नीलम ध्रुव ने गत वर्ष तालाब के गहरे पानी में डूब रही 4 वर्षीय टिकेश्वरी की जान बचाई थी. उसकी तात्कालिक सूझ-बूझ और साहसिक निर्णय के लिए उसे राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है और नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस के अवसर पर उसे यह पुरस्कार दिया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *